गुणायतन क्यों ?

तीर्थराज सम्मेद शिखर जैनियों का शिरोमणि तीर्थ है । यहाँ प्रतिवर्ष लाखों श्रद्धालु/पर्यटक आते हैं । इतने बड़े तीर्थस्थल पर दिगम्बर जैन समाज का मंदिरों के अतिरिक्त ऐसा कुछ भी नहीं है जो यहाँ आने वाले श्रद्धालुओं/पर्यटकों को आकर्षित कर उन्हें जैन धर्म का बोध करा सके । इसी अभाव की पूर्ति के लिए गुणायतन का निर्माण किया जा रहा है । यह ज्ञान मंदिर यहाँ आने वाले श्रद्धालुओं/पर्यटकों के आकर्षण का केन्द्र बन सम्मेद शिखर के विकास में भी मील का पत्थर बनेगा ।